वुसिते विगयगिद्धी य, आयाणं सारक्खए। संयमी व्यक्ति धर्म में स्थित रहे। वह किसी भी इंद्रिय-विषय में आसक्त न बने और आत्मा का संरक्षण करे।

- आचार्य श्री भिक्षु महाराज

विविध

नामकरण संस्कार

पूर्वांचल कोलकाता।

25 March - 31 March 2024

नामकरण संस्कार

स्वाध्याय

धर्म है उत्कृष्ट मंगल

आचार्यश्री महाश्रमण

25 March - 31 March 2024

धर्म है उत्कृष्ट मंगल

स्वाध्याय

श्रमण महावीर

-आचार्यश्री महाप्रज्ञ

25 March - 31 March 2024

श्रमण महावीर

स्वाध्याय

संबोधि

-आचार्यश्री महाप्रज्ञ

25 March - 31 March 2024

संबोधि

रचनाएं

जीता जीवन मैदान है

साध्वी योगक्षेमप्रभा

25 March - 31 March 2024

जीता जीवन मैदान है

रचनाएं

तुमने इतिहास रचाया

साध्वी अणिमाश्री

25 March - 31 March 2024

तुमने इतिहास रचाया

रचनाएं

कितना बदल गया इंसान

साध्वी अमित यशा, साध्वी कारुण्य प्रभा

25 March - 31 March 2024

 कितना बदल गया इंसान

रचनाएं

कर्म कसौटी पर खरी उतरीं

'शासनश्री' साध्वी विद्यावती 'द्वितीय'

25 March - 31 March 2024

कर्म कसौटी पर खरी उतरीं
PDF जैन पंचांग